baba ramdev ka bigadta mizaaz.

baba ramdev ka bigadta mizaaz.

बाबा रामदेव ने अपने मिशन की शुरुआत जिस महान लक्ष्य ,औसत भारतीय हो स्वस्थ ले निरोगी काया और प्राचीन भारतीय उपचार पद्धति की सर्व स्वीकार्यता ,से भटक कर धन पिपासूवों और राजनितिक अखाड़ेबाज़ो के चंगुल में जा फंसे हैं। अब उनका अपनी ज़ुबान और शरीर सहित दिमाग पर भी नियंत्रण नहीं रहा। एक आदर्श पुरुष के रूप में ,एक नव प्रणेता के रूप में ,एक निःस्पृह, संभाव ,परोपकारी की जो दृष्टि और वाणी उनमे होनी चाहिए थी वह उन्होंने खो दी है। वें एक करप्ट सी डी की तरह सभी को अस्वीकार्य भाषा बोल रहे हैं। राष्ट्र निर्माण ,राष्ट्र कल्याण ,ईमानदार समाज ,मेहनतकश इन्शान बनाने और राष्ट्र को विश्वगुरु बनाने के लिए ऐसी भाषा की तो कतई जरुरत नहीं है। दुनिया को नैतिकता ,शिष्टाचार, सभ्यता और आदर्श का पाठ पढने वाले को दूसरे से कोई अपेक्षा रखने से पहले अपनी भाषा और आचरण सुधारना जरुरी है।

Advertisements
Image | This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s