इतिहास के शब्दों में -आज़ादी और स्वराज, क्या पाया आज

                                  देहरादून, (9august kranti diwas ) अतीत में घूमना अच्छा लगता है। वहां दिल -औ -दिमाग को झकझोर देने वाली वर्णित घटनाओं और शब्दों से रूबरू होना, विचार की एक नई खिड़की के खुलने का एहसास दे जाता है । और यह आंकलन भी कि काल के अंतराल किसी कौम ने क्या खोया और पाया ?भारत के महान नेता सी . राजगोपालाचारी की डायरी के कुछ अंश पढ़ना एसा ही एहसास है ।                                                    From the DAIRY of great Indian leader late C.Rajagopalachari . In the light of 9th August Kranti Diwas and coming 66th independence day 2013. Whatever he had written in his dairy on Tuesday ,24th january 1922 ,is still true,relevant ,considerable and press to us to think ,that ,how far we travelled to achieve our freedom movement goal, the SWARAJ.                                                                                                                We all ought to know that SWARAJ will not at once  or,I think,even for a long time to come,be better Government or greater happiness  for the people. Election and their Corruption,Injustice and the power and Tyranny of Wealth, and Inefficiency of administration will make a  HELL of Life as soon as freedom is given to US.       The only thing gained will be that as a RACE we will be saved from dishonours and subordination. Hope lies only in universal Education by which Right Conduct ,Fear of God,and Love ,will be developed among the citizens from Childhood . IT IS ONLY IF WE SUCCEED in this that SWARAJ will mean HAPPINESS.                                                                                महान नेता सी.  राजगोपालाचारी के एक -एक शब्द पर गौर करने की जरूरत है ,खासतौर पर उन्हें ,जिनको इस देश को  विरासत में पाने का दर्प है ,उन्हें जो सवेंदनशील हैं ,उन पत्रकार साथियों को जो आम आदमी के हक़ में आवाज़ बुलंद करने का विश्वास दिलाते हैं , और उन तमाम ब्राह्मणों से जो राष्ट्र और समाज क्र हित चिंतन का माद्दा रखते हैं ,जिनमे जमीर शेष बचा है । सोचे क्या आज़ादी के 66 साला सफ़र में ,हमने जिन्हें अब तक राष्ट्र और राज्य नायक चुना ,जिन पर हम आज भरोसा कर रहे हैं , वें हमें स्वराज सुख दिला  पाए ?                        श्री   राजगोपालाचारी  के 91 -92  वर्ष पूर्व वर्णित हालात आज भी जस के तस हैं । अक्षम शासन ,भ्रष्टाचार ,धन और शक्ति बल ने लोकतंत्र को ,राजाजी के शब्दों में कहें तो ,जीवन का नर्क बना डाला है । यही इस स्वतंत्रता दिवस का सच है । आओ , संकल्प लें बदलाव का ,स्वराज को सही मायने में पाने का।              

Advertisements
This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

One Response to इतिहास के शब्दों में -आज़ादी और स्वराज, क्या पाया आज

  1. avixit raman says:

    aap jaise log con. me hai yah vishwas nahi ho rahaa hai kyonki aaj desh me jo ho rahaa hai vah sab aapki sarkaro chahe kendra or state rajniti me ham sanvidhan ki un vyakhyayaon tak ko bhul jate hai.jinme hame ek saman yani bina bhed bhav,dharma,panth,jaati xhetra,bhasha ki baat batlaayi gayi.ab bhrashtachaar ka janm enhi kaarno ki upaj hi hai

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s